T20 World Cup: वरुण चक्रवर्ती धोनी को बोल्ड करके बने थे हीरो, ये खूबियां उन्हें बनाती हैं चैंपियन

0
76

[ad_1]

नई दिल्ली. मिस्ट्री स्पिनर वरुण चक्रवर्ती (Varun Chakravarthy) को टी20 वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया में जगह मिली है. टूर्नामेंट (T20 World Cup 2021) के लिए जब टीम चुनी गई तब वरुण के पास सिर्फ 24 टी20 मैच का अनुभव था. इतना ही नहीं वे अब तक सिर्फ 3 टी20 इंटरनेशनल मैच ही खेल सके हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि उन्हें इतने बड़े टूर्नामेंट के लिए क्यों चुना गया. तो हमें एक साल पीछे जाना होगा. वरुण चक्रवर्ती ने 2020 के आईपीएल में सीएसके के कप्तान एमएस धोनी (MS Dhoni) को 2 बार बोल्ड करके सुर्खियां बटोरी थीं और तभी से उन्हें इस बड़े इवेंट के लिए तैयार किया जा रहा था.

वरुण चक्रवर्ती हालांकि मार्च में इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में नहीं उतर सके थे. वे टीम में थे, लेकिन फिटनेस टेस्ट में फेल होने के कारण वे बाहर हो गए थे. जुलाई में उन्हें पहली बार इंटरनेशनल मैच खेलने का मौका मिला. उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ तीन टी20 मैच में 2 विकेट लिए. उनकी इकोनॉमी 5.50 से भी कम की रही, जो टी20 के लिहाज से बेहद शानदार है.

धोनी को दिया था चकमा

पिछले साल केकेआर की ओर से खेलते हुए वरुण चक्रवर्ती ने एमएस धोनी को 11 रन के स्कोर पर बोल्ड किया था. धोनी ने ऑफ स्टंप के बाहर जाती हुई लेंथ बॉल पर चौका लगाया. लेकिन इसके बाद लेग स्पिनर वरुण ने वापसी करते हुए धीमी और फुलर गेंद डाली. इस पर धोनी बोल्ड हो गए थे. 27 अक्टूबर को हुए दूसरे मुकाबले में वरुण ने अपनी तेजी से धोनी को चकित कर दिया था. उन्होंने 107 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से धोनी को बोल्ड कर दिया. मैच के बाद धोनी और वरुण की बातचीत भी हुई थी.

जश्न नहीं मनाने का विशेष कारण

30 साल के वरुण चक्रवर्ती को विकेट लेने के बाद जश्न मनाते कम ही देखा गया है. वे इसे प्रकट नहीं होने देते. इस पर केकेआर के उनके साथी खिलाड़ी आंद्रे रसेल ने एक चैट में बताया था कि वे ऐसा इसलिए करते हैं कि ताकि अपनी रणनीति से भटक ना जाएं. अगर वे अधिक जश्न मनाते हैं तो यह भूल सकते हैं कि अगली गेंद पर क्या करना है. हालांकि वे बाद में जश्न मनाते हैं.

2 मैच में किया है कमाल का प्रदर्शन

आईपीएल के दूसरे चरण के पहले 2 मुकाबले में वरुण चक्रवर्ती ने काफी सधी हुई गेंदबाजी की है. गुरुवार रात मुंबई इंडियंस के खिलाफ खेले गए मैच में उन्होंने 4 ओवर में सिर्फ 22 रन दिए थे. यानी उनकी इकोनॉमी 6 से कम की थी. जबकि मुंबई में रोहित, क्विंटन डिकॉक, सूर्यकुमार, ईशान, पोलार्ड जैसे दिग्गज बल्लेबाज थे. वहीं आरसीबी के खिलाफ पहले मैच में उन्हाेंने 3 विकेट लिए थे. इतना ही नहीं उन्होंने लगातार 2 गेंद पर ग्लेन मैक्सवेल और हसारंगा को आउट किया था.

फ्लैट पिच पर गेंदबाजी करना पसंद है

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, वरुण चक्रवर्ती का कहना है कि उन्हें फ्लैट पिच पसंद है. उन्होंने कहा, ‘मेरी गेंदबाजी स्टाइल के हिसाब से टर्निंग विकेट अधिक उपयुक्त नहीं है. जैसे चेन्नई की पिच. लेकिन सपाट पिच मुझे पसंद हैं. यहां मैं अपनी गति और कम टर्न के साथ सफल रहता हूं.’ टी20 वर्ल्ड कप के मुकाबले यूएई में होने हैं. यह वरुण और टीम इंडिया के लिए एकदम सही है.

यह भी पढ़ें: ON This Day: एमएस धोनी बतौर कप्तान सिर्फ 49 दिन, 7 मैच में बन गए थे वर्ल्ड चैंपियन, 2 बार पाकिस्तान को हराया

कोहली ने उठाए थे सवाल

मार्च में यो-यो टेस्ट में फेल होने के बाद कप्तान विराट कोहली ने सख्त शब्दों में संदेश दिया था. उन्होंने कहा था, ‘सभी को टीम इंडिया के बनाए गए सिस्टम को समझने की जरूरत है. हमें फिटेनस और स्किल पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है. हम उम्मीद करते हैं कि खिलाड़ी इसका पालन करेंगे. इस संबंध में किसी तरह के समझौते की कोई उम्मीद नहीं है.’ इससे एक दिन पहले केकेआर के सीईओ वेंकी मैसूर ने कहा था कि वरुण के पास हम जितना जानते हैं, उससे अधिक स्किल है. लेकिन स्प्रिंट में कुछ सेकंड पीछे… मुझे आश्चर्य है कि मौजूदा मानकाें के आधार पर कई पुराने दिग्गज टीम में जगह नहीं बना पाते.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here