IPL 2021: धोनी के एक मैसेज ने 10 महीने में बदली CSK की किस्मत, फर्श से अर्श पर पहुंच गई टीम

0
59

[ad_1]

नई दिल्ली. डैड्स ऑर्मी, बूढ़ों की टीम, ऐसी टीम जिसमें दूरदर्शिता की कमी… आईपीएल-2020 में खराब प्रदर्शन के बाद चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) को कुछ तरह के ताने सुनने को मिले थे लेकिन 10 महीने में ही टीम की किस्मत बदल गई और टीम ने अपने प्रदर्शन से तमाम आलोचकों का मुंह बंद कर दिया और रिकॉर्ड 11वीं बार आईपीएल के प्लेऑफ (CSK IPL 2021 Playoffs) में पहुंच गई. इसकी वजह है टीम के सबसे खास खिलाड़ी का एक संदेश. इस एक मैसेज ने टीम में जान फूंक दी और पिछले आईपीएल में सातवें पायदान पर रहने वाली टीम इस बार सबसे पहले प्लेऑफ में पहुंचीं. यह शख्स कोई और नहीं टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी थे.

धोनी ने पिछले सीजन में टीम के खराब प्रदर्शन के बाद साथी खिलाड़ियों को एक संदेश दिया था. जिसके खिलाड़ियों के मन में आत्मविश्वास पैदा किया और उसका नतीजे आज सबके सामने हैं. सीएसके के सीईओ काशी विश्वनाथन ने इनसाइड स्पोर्ट से बातचीत में धोनी के इस खास मैसेज की कहानी बताई. उन्होंने कहा कि धोनी का खास मैसेज और टीम के मालिकों के सपोर्ट के कारण सीएसके ने इस सीजन में शानदार वापसी की.

धोनी के शब्दों ने खिलाड़ियों का आत्मविश्वास बढ़ाया: CSK CEO
सीएसके के सीईओ विश्वनाथन ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी का संदेश साफ था कि चिंता करने की कोई बात नहीं है. हमारा सिर्फ एक सीजन खराब गया है और ऐसा खेल में होता है. सीईओ के मुताबिक, धोनी के इन शब्दों का खिलाड़ियों पर जादू सा असर हुआ और उनका खोया आत्मविश्वास लौट आया और उन्हें लगा कि अभी सब कुछ नहीं खोया है और हम अगले सीजन में जोरदार वापसी कर सकते हैं. कप्तान के इस संदेश के बाद सबकी चिंता दूर हो गई. खिलाड़ियों को कप्तान पर भरोसा था कि हम जल्द ही एक टीम के तौर पर लीग में वापसी करेंगे.

‘कप्तान पर भरोसा हमारे काम आया’
उन्होंने आगे कहा कि पिछले सीजन के हम बहुत ज्यादा चिंता नहीं कर रहे थे. हमें अपने कप्तान और टीम पर पूरा भरोसा था कि हम जल्द ही वापसी करेंगे और अब आप देख सकते हैं कि हमने वापसी कर ली.

IPL 2021: धोनी ने 96 मीटर लंबा छक्का उड़ा CSK को दिलाई जीत, फैंस बोले- फिनिशर जिंदा है

आईपीएल 2020 में क्यों कमजोर साबित हुई धोनी की टीम?
आईपीएल 2020 की हार के बाद धोनी की सीएसके को कई मुद्दों का सामना करना पड़ा था. प्लेइंग-11 में खेलने वाले खिलाड़ियों की औसत उम्र तो 33 साल से ऊपर थी. महेंद्र सिंह धोनी और अंबाती रायडू अच्छे फॉर्म में नहीं थे. सुरेश रैना के अचानक देश लौटने के कारण टीम का मिडिल ऑर्डर पूरी तरह कमजोर हो गया था. वहीं, ड्वेन ब्रावो जैसे भरोसेमंद ऑलराउंडर भी चोट के कारण अधिकतर मुकाबलों में नहीं खेले थे. इसी वजह से सैम करेन और लुंगी एनगिडी जैसे गेंदबाजों पर अतिरिक्त दबाव आ गया था.

IPL 2020 में 7वें नंबर रहने वाली धोनी की CSK इस बार प्लेऑफ में सबसे पहले पहुंची, जानें कैसे

इतना सब कुछ होने के बाद भी आईपीएल 2021 के लिए हुई नीलामी में सीएसके ने सबको चौंका दिया गया था. टीम ने ब्रावो, सुरेश रैना, फाफ डुप्लेसी, इमरान ताहिर, अंबाती रायडू जैसे खिलाड़ियों को रिटेन किया. यह सभी खिलाड़ी 35 साल से ज्यादा के थे. ज्यादातर खिलाड़ी इस सीजन में कप्तान के भरोसे पर खरे उतरे. जब बाकी खिलाड़ी नहीं चले तो, ऋतुराज गायकवाड़, रवींद्र जडेजा, दीपक चाहर और मोईन अली ने अपने दम पर टीम को जीत दिलाई.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here