पाकिस्तान की तेज गेंदबाजी पर पिछले 10-12 साल में क्यों पड़ा असर? वकार यूनिस ने बताई वजह

0
70

[ad_1]

नई दिल्ली. पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाजी कोच वकार यूनिस (Waqar Younis) का मानना ​​है कि पिछले एक दशक में यूएई में खेलने से उनके देश के गेंदबाजों पर काफी असर पड़ा है. पिछले कुछ साल में ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की पाकिस्तान में वापसी हुई. इससे पहले तक पाकिस्तान अपने घरेलू मैच और सीरीज संयुक्त अरब अमीरात की मेजबानी में ही खेलता रहा. वकार ने कहा कि यूएई में लगातार खेलने से पाकिस्तान को मैच जीतने के लिए स्पिनरों पर निर्भर रहना पड़ा.

पाकिस्तान ने कई बेहतरीन तेज गेंदबाज दिए हैं. वकार हालांकि इस बात को लेकर आशावादी हैं कि देश में क्रिकेट की वापसी के साथ और अधिक तेज गेंदबाज विश्व में धूम मचाएंगे. उन्होंने क्रिकविक से कहा, ‘पिछले 10-12 साल में तेज गेंदबाजी निश्चित रूप से खराब हुई क्योंकि हमें यूएई में अपनी घरेलू सीरीज खेलने के लिए मजबूर किया गया जहां पिचों से तेज गेंदबाजों को बहुत कम मदद मिली. यहां तक ​​कि जब मैं मुख्य कोच था, तब भी हम वहां मैच जीतने के लिए ज्यादातर अपने स्पिनरों पर निर्भर रहते थे.’

इसे भी पढ़ें, गंभीर ने इशारों-इशारों में धोनी को बताया ‘तथाकथित फिनिशर’! तो भड़के फैंस ने सुनाई खरी-खोटी

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के हालिया दौरे विवादास्पद रूप से रद्द हो गए जो पाकिस्तान अपनी मेजबानी में खेलता. इससे निश्चित रूप से देश के तेज गेंदबाजों के लिए उम्मीद जगी लेकिन ऐन मौके पर सीरीज रद्द कर दी गई. वकार ऐसे कई युवाओं को देखकर खुश हैं जो तेज गेंदबाजी कर सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘देश में निश्चित तौर पर तेज गेंदबाजी की वापसी हो रही है. अब हमारे पास 7-8 युवा तेज गेंदबाज हैं जो 140 से ज्यादा की गति से गेंदबाजी कर सकते हैं और पाकिस्तान में पिचें भी उनके लिए काफी उपयुक्त हैं.’

वकार ने यह भी कहा कि युवा खिलाड़ियों की आलोचना कई बार जरूरी नहीं होती है. उन्होंने प्रशंसकों से आग्रह किया कि वे टीम में चुने गए खिलाड़ियों के साथ धैर्य रखें. उन्होंने कहा, ‘मैं जानता हूं कि जब क्रिकेट की बात आती है तो हम बहुत भावुक होते हैं लेकिन हमें एक खराब प्रदर्शन के बाद किसी को बयां करने के बजाय आंकड़ों पर अपने फैसले करने चाहिए.’

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here