आज का किस्सा: जब सचिन ब्रिगेड ने द्रविड़ की टीम को दी शिकस्त और फिर दोनों ने एक साथ टी20 को अलविदा कह दिया

0
68

[ad_1]

नई दिल्ली. तारीख दो तरह की होती हैं. एक जो आपको रह-रहकर याद आए, दिलो-दिमाग से उतरे ही नहीं. दूसरी, जिसे हम यूं भुला देते हैं. भारतीय क्रिकेट में 6 अक्टूबर (6th October) यादगार तारीख है. यह तारीख है भारत के दो महान बल्लेबाजों के आखिरी टी20 मैच की. दिलचस्प बात यह है कि ये दोनों बल्लेबाज उस दिन एकदूसरे को हराने के लिए मैदान पर उतरे थे. जिसे जीत मिली, उन्हें उनके प्रशंसक ‘द गॉड’ कहकर बुलाते हैं, नाम है सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar). सचिन की टीम ने उस दिन ‘द वॉल’ कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) की कप्तानी वाली टीम को हराया था.

आम खेलप्रेमी को भले ही 2013 की वह खास तारीख या टूर्नामेंट याद ना हो. लेकिन सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ के दीवाने आज भी वह तारीख, जगह और टूर्नामेंट भूले नहीं है. जगह थी देश की धड़कन कही जाने वाली दिल्ली और मुकाबला था चैंपियंस टी20 लीग का फाइनल (Champions League Twenty20). एक तरफ थी रोहित शर्मा की कप्तानी वाली मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians), जिसकी ओपनिंग सचिन के मजबूत कंधों पर हुआ करती थी. दूसरी टीम राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) की कमान खुद राहुल द्रविड़ संभाल रहे थे.

मुंबई इंडियंस उन दिनों भी आज ही की तरह थी, जिसमें कमियां निकालना टेढ़ी खीर थी. दूसरी ओर, राजस्थान रॉयल्स हमेशा की तरह अपेक्षाकृत कम मशहूर नाम वाली, लेकिन बेहद मजबूत टीम. राहुल द्रविड़ ने फाइनल मुकाबले में टॉस जीता. ‘द वॉल’ को उम्मीद रही होगी कि वे घड़ी की सुइयां अपने मुताबिक घुमा सकेंगे, लेकिन वह वक्त तो मुंबई के नाम था.

मुंबई इंडियंस ने उस मैच में पहले बैटिंग करते हुए 6 विकेट पर 202 रन का पहाड़ खड़ा कर दिया. किसने कितने रन बनाए, इससे पहले यह जान लेते हैं कि इस बल्लेबाजी लाइनअप में कौन-कौन थे… पारी की शुरुआत करने उतरे सचिन तेंदुलकर और वेस्टइंडीज के ड्वेन स्मिथ. तीसरे नंबर पर अंबाती रायडू और उनके बाद खुद कप्तान रोहित शर्मा. पांचवें नंबर पर कैरेबियन क्रिकेटर कायरन पोलार्ड और छठे नंबर पर ऑस्ट्रेलिया के तूफानी बल्लेबाज ग्लेन मैक्सवेल. इन सबके बाद आए भारतीय क्रिकेट के सदाबहार दिनेश कार्तिक. इन सबने मिलकर टीम को 200 के पार पहुंचा दिया. हालांकि, पारी में एक भी फिफ्टी नहीं थी. सचिन ने 15, ड्वेन स्मिथ ने 44 रन बनाकर अच्छी शुरुआत दी. इसे रायडू (29), रोहित (33), पोलार्ड (15), मैक्सवेल (37) और कार्तिक (15) ने आगे बढ़ाया.

राहुल द्रविड़ की टीम को पहाड़ सा लक्ष्य मिला था और यह तभी हासिल होता जब जवाब में तूफानी बैटिंग की जाय. अब राहुल खुद तो कभी तेज बल्लेबाजी के लिए जाने नहीं गए. हां, उनसे बेहतर टीममैन ढूंढ़ना जरूर मुश्किल है. द्रविड़ ने उस दिन अपने हर उस बल्लेबाज को खुद से पहले बैटिंग करने भेजा, जो उनसे जरा भी तेज बैटिंग करना जानता था. हालांकि, ऐसा करके भी वे टीम को जिता नहीं पाए क्योंकि उनके दो बैटर को छोड़कर कोई भी उम्मीद पर खरा नहीं उतरा. राजस्थान रॉयल्स के मौजूदा कप्तान संजू सैमसन ने 60 और अजिंक्य रहाणे ने 65 रन बनाए. राहुल द्रविड़ एक रन बनाकर नाथन कुल्टर नाइल का शिकार बने और राजस्थान रॉयल्स की टीम यह मैच 33 रन से हार गई.

इस तरह 6 अक्टूबर 2013 को मुंबई इंडियंस ने राजस्थान रॉयल्स को हराकर चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया. लेकिन अगर यह कहा जाय तो गलत नहीं होगा कि आज यह तारीख मुंबई के खिताब से ज्यादा सचिन और द्रविड़ के आखिरी टी20 मैच के लिए याद की जाती है.

और अंत में; यह गजब संयोग है कि घरेलू टी20 क्रिकेट को एक ही दिन अलविदा कहने वाले सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ ने इंटरनेशल लेवल में सिर्फ एक-एक टी20 मैच खेले है. सचिन ने 2006 में एकमात्र टी20 इंटरनेशनल मैच खेला था. राहुल द्रविड़ ने 2011 में टी20 इंटरनेशनल में डेब्यू किया था. वही उनका आखिरी टी20 इंटरनेशनल मैच भी था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here