IND vs PAK, T20 World Cup: भारत के पास है पाकिस्तान पर जीत का फॉर्मूला, 1992 से हर बार इसी मंत्र से जीता

0
17


नई दिल्ली. भारत क्रिकेट विश्व कप (Cricket World Cup) में हर बार पाकिस्तान को हराता है. यह ऐसी बात है जो अब भारत और पाकिस्तान (India vs Pakistan) दोनों देशों के बच्चे-बच्चे को पता है. 1990 के दशक में जब इमरान खान (Imran Khan) की पाकिस्तानी टीम (Pakistan) भारत से मजबूत नजर आती थी, तब भी उसे जीत नसीब नहीं हुई. सन 2000 के बाद से भारतीय टीम (Team india) पाकिस्तान से बेहतर होती चली गई और जीत भी भारत के साथ-साथ चलती रही. दोनों टीमों के बीच 1992 में पहली बार विश्व कप (World Cup 1992) में मुकाबला हुआ. तब से अब तक 12 भिड़ंत हो चुकी हैं. हर बार भारत ही जीतता आ रहा है. इसकी वजह भी बड़ी साफ है. भारत ने वह फॉर्मूला ढूंढ़ लिया है, जो उसे हर बार जीत तक ले जाता है. फॉर्मूला-पाकिस्तान के बेस्ट बॉलर की जमकर पिटाई और अगर ऐसा ना हो पाए तो उसे विकेट तो बिलकुल भी नहीं देना. इमरान खान, वसीम अकरम, वकार यूनुस, शोएब अख्तर, सकलेन मुश्ताक, सईद अजमल, उमर गुल अलग-अलग समय पर पाकिस्तानी अटैक की अगुवाई करते रहे, लेकिन इतिहास गवाह है कि इनमें से किसी को विश्व कप में भारत के खिलाफ वह कामयाबी नहीं मिली, जो उनका ख्वाब रही होगी. इस स्टोरी में हर वर्ल्ड कप की जानकारी है और इसके केंद्र में एक ही बात है- पाकिस्तानी दिग्गज गेंदबाज की नाकामी. India vs Pakistan Live score रात 7.30 बजे से News18 Hindi के क्रिकेट और T20 वर्ल्ड कप पेज पर उपलब्ध होगा.

वर्ल्ड कप 1992 (ODI) : भारत ने पाकिस्तान को 43 रन से हराया. पाक कप्तान इमरान खान और वसीम अकरम मैच में एक भी विकेट नहीं ले सके. वसीम अकरम इस मैच में पाकिस्तान की ओर से सबसे ज्यादा रन (45) लुटाने के मामले में भी दूसरे नंबर पर थे. उनसे ज्यादा रन सिर्फ मोहम्मद मुश्ताक ने खर्च किए, लेकिन उन्होंने 3 विकेट भी लिए थे.

वर्ल्ड कप 1996 (ODI): वकार यूनुस और आकिब जावेद सबसे महंगे गेंदबाज रहे. दोनों ने 10-10 ओवर के स्पेल में 67-67 रन लुटाए. इस मैच में अजय जडेजा ने वकार के 1 ओवर में 22 रन ठोककर पाकिस्तान का हौसला ही तोड़ दिया था. भारत ने इस मैच में अंतिम 4 ओवर में 57 रन बनाए थे.

वर्ल्ड कप 1999 (ODI): शोएब अख्तर और सकलेन मुश्ताक उन दिनों पाकिस्तान के बेस्ट बॉलर हुआ करते थे. स्कोरकार्ड इसके बिलकुल उलट है. सकलेन 67 रन लुटाकर भी विकेट नहीं ले सके. अख्तर 54 रन लुटाकर सकलेन के बाद दूसरे सबसे महंगे गेंदबाज रहे.

वर्ल्ड कप 2003 (ODI): पाकिस्तान की टीम वसीम अकरम, शोएब अख्तर, वकार यूनुस के पेस अटैक के साथ उतरी. अकरम उन दिनों ढलान पर थे. शायद इसीलिए वकार और अख्तर भारतीय बल्लेबाजों के निशाने पर आए. अख्तर ने 72 और वकार यूनुस ने 71 रन लुटाए. अख्तर की गेंद पर सचिन का प्वाइंट पर छक्का अब भी हर क्रिकेटप्रेमी को याद है

वर्ल्ड कप 2011 (ODI): साल 2007 के विश्व कप में भारत-पाकिस्तान का मुकाबला नहीं हो सका. लेकिन 2011 में यह मुकाबला सूद सहित लौटा. दोनों टीमों के बीच सेमीफाइनल खेला गया. उन दिनों उमर गुल पाकिस्तान के बेस्ट बॉलर हुआ करते थे और उन्हें इस मैच में कोई विकेट नहीं मिला. उन्होंने 8 ओवर में 69  रन दिए.

वर्ल्ड कप 2015 (ODI): भारत ने इस साल वनडे विश्व कप में पाकिस्तान पर जीत का छक्का लगाया. हर बार की तरह भारत ने इस बार भी उसके बेस्ट बॉलर पर हमला किया. वर्ल्ड कप से पहले 7 फुट लंबे मोहम्मद इरफान को लेकर बड़े-बड़े दावे किए गए. कहा गया कि यह गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया की तेज पिचों पर बल्लेबाजों को नाकों चने चबवाएगा. हुआ इसका उलटा ही. भारत ने इस मैच में 300 रन बनाए और मोहम्मद इरफान के नाम के सामने विकेट के खाते में 0 दर्ज था.

वर्ल्ड कप 2019 (ODI): इस बार जब भारत ने पाकिस्तान के सामने 5 विकेट पर 336 रन का विशाल खड़ा किया. कहने की जरूरत नहीं कि पाकिस्तान का बेस्ट बॉलर ही नहीं, तकरीबन हर गेंदबाज पिटा. जिस हसन अली पर पाकिस्तान को बड़ा गर्व है, उससे भारत ने 9 ओवर में ही 84 रन वसूल लिए. वहाब रियाज ने 71 रन लुटाए. मैच फिक्सिंग की सजा काटकर मैदान पर लौटे मोहम्मद आमिर जरूर 3 विकेट ले गए. लेकिन सबको पता है कि तब तक आमिर पाकिस्तान के नंबर-1 गेंदबाज नहीं रह गए थे.

वर्ल्ड कप 2007 (T20): वनडे वर्ल्ड कप की कहानी ही टी20 वर्ल्ड कप में नजर आती है. इस फॉर्मेट में भी भारतीय बल्लेबाजों के निशाने पर पाकिस्तान के बेस्ट बॉलर ही रहते हैं. 2007 के टी20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय बल्लेबाज तेज शुरुआत करने की कोशिश में मोहम्मद आसिफ को 4 विकेट दे बैठे. हालांकि, राहत की बात रही कि गेंदबाजों ने यह मैच टाई कराया और फिर भारत ने बॉल आउट में जीत दर्ज किया.  इसी वर्ल्ड कप के फाइनल में भारत ने अपनी गलती सुधारी और खिताबी मुकाबले में आसिफ सिर्फ एक विकेट ले सके. सोहैल तनवीर को तो एक भी विकेट नहीं मिला. नतीजा भारत ने 157 रन का मजबूत स्कोर बनाया और जीत दर्ज कर ट्रॉफी पर कब्जा किया

वर्ल्ड कप 2012 (T20): इस बार भारतीय बल्लेबाजों से पहले गेंदबाजों ने ही पाकिस्तान का काम तमाम कर दिया था. भारतीय गेंदबाजों ने पाकिस्तान को 128 रन पर ढेर कर दिया. लक्ष्य आसान मिला और भारतीय बल्लेबाज अपने इतिहास के मुताबिक खेले. उन्होंने पाकिस्तान के तब के बेस्ट फास्ट बॉलर उमर गुल और बेस्ट स्पिनर सईद अजमल को एक भी विकेट नहीं दिए. बाकी के पाकिस्तानी गेंदबाज सिर्फ 2 विकेट ले सके और भारत ने 8 विकेट से जीत दर्ज की.

वर्ल्ड कप 2014 (T20): यह मैच पिछले टी20 विश्व कप का रीप्ले जैसा था. भारत ने 2014 के टी20 विश्व कप में पाकिस्तान को 130/7 रन पर रोक दिया. गेंदबाजों ने अपना काम कर दिया. अब बल्लेबाजों की बारी थी और इतिहास उनके साथ था. भारतीय बल्लेबाजों ने सिर्फ 3 विकेट खोकर हासिल किया. रही बात पाकिस्तान के बेस्ट बॉलर की तो इस बार गेंदबाजी की शुरुआत करने वाले दोनों पाकिस्तानियों जुनैद खान और मोहम्मद हफीज को विकेट नहीं मिला. उमर गुल और सईद अजमल को मुश्किल से एक-एक विकेट मिला.

वर्ल्ड कप 2016 (T20): कोलकाता में खेले गए इस मैच का किस्सा भी टी20 विश्व कप के पिछले मुकाबलों जैसा ही रहा. भारत ने 2016 के टी20 विश्व कप में पाकिस्तान को 118/5 रन पर ही रोक दिया. एक भी पाकिस्तानी 30 का निजी स्कोर भी नहीं बना सका. भारतीय गेंदबाजों ने अपना काम कर दिया था. अब बल्लेबाजों की बारी थी और उन्होंने 16वें ओवर में ही अपनी टीम को जीत दिला दी. पाकिस्तान के बेस्ट बॉलर माने जाने वाले मोहम्मद आमिर सिर्फ एक विकेट ले सके. मोहम्मद इरफान को विकेट ही नहीं मिला. ईडन गार्डंस की स्पिन फ्रेंडली विकेट पर शाहिद अफरीदी और शोएब मलिक भी खाली हाथ रहे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here