NZ vs SCOT T20 World Cup: न्यूजीलैंड-स्कॉटलैंड 12 साल बाद भिड़ेंगे, केन विलियमसन के खेलने पर सस्पेंस

0
46

[ad_1]

दुबई. भारत को हराने के बाद आत्मविश्वास से लबरेज न्यूजीलैंड टीम टी20 विश्व कप ग्रुप-दो के सुपर 12 मुकाबले में बुधवार को स्कॉटलैंड (NZ vs SCOT T20 World Cup) को हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश का अपना दावा मजबूत करने के इरादे से उतरेगी. यह दोनों टीमों के बीच दूसरा टी20 मुकाबला होगा. इससे पहले 2009 के टी20 विश्व कप में स्कॉटलैंड और न्यूजीलैंड का मुकाबला हुआ था. तब न्यूजीलैंड 7 विकेट से जीता था. पहले मैच में पाकिस्तान से हारने के बाद केन विलियमसन (Kane Williamson) की टीम ने भारत को आठ विकेट से हराकर वापसी की. न्यूजीलैंड टीम को अंतिम चार में पहुंचने के लिये बाकी तीनों मैच जीतने होंगे, तो वह कोई कोताही नहीं बरत सकती.

पाकिस्तान और भारत जैसी मजबूत टीमों से उसके मुकाबले हो चुके हैं और स्कॉटलैंउ तथा नामीबिया कमोबेश कमजोर प्रतिद्वंद्वी है. अफगानिस्तान से उसे चुनौती मिल सकती है. न्यूजीलैंड का गेंदबाजी आक्रमण शानदार है और यह पिछले दोनों मैचों में देखने को मिला. बल्लेबाजों ने सिर्फ 134 रन बनाये थे. लेकिन इसी पर उसके गेंदबाजों ने पाकिस्तान को नाकों चने चबवा दिये. भारतीय बल्लेबाजों को भी उन्होंने खासा परेशान किया. स्पिनर ईश सोढी और मिशेल सेंटनर ने भारतीयों को रन नहीं बनाने दिये. दोनों ने मिलकर आठ ओवर में सिर्फ 32 रन दिये और रोहित शर्मा तथा विराट कोहली के कीमती विकेट भी लिये.

विलियमसन की फिटनेस ने बढ़ाई न्यूजीलैंड की चिंता
ट्रेंट बोल्ट की अगुवाई में तेज गेंदबाजों ने भी अनुशासित प्रदर्शन किया. बल्लेबाजी में डेरिल मिशेल ने सलामी बल्लेबाज की भूमिका बखूबी निभाई है. मार्टिन गुप्टिल के साथ वह कामयाब सलामी जोड़ी बनाते हैं. पहले मैच में नाकामी के बाद हालांकि भारत के खिलाफ ज्यादा कुछ करने के लिये था नहीं. न्यूजीलैंड की चिंता का सबब विलियमसन की फिटनेस है. वह अभी भी पूरी तरह फिट नहीं है और कोहनी की चोट के साथ खेल रहे हैं. वैसे उनके जैसे करिश्माई कप्तान को बाहर रखने का जोखिम टीम नहीं लेना चाहेगी.

स्कॉटलैंड ने क्वालिफायर राउंड में सभी मैच जीते थे
दूसरी ओर स्कॉटलैंड क्वालीफायर में सारे मैच जीतकर सुपर 12 में पहुंची थी. लेकिन उसे नामीबिया और अफगानिस्तान ने हराया. अफगानिस्तान के खिलाफ तो वह 60 रन पर आउट हो गई और 130 रन से पराजय का सामना करना पड़ा. न्यूजीलैंड जैसी मजबूत टीम से तो फिर उसका कोई मेल ही नहीं है. स्कॉटलैंड के पास भी अच्छा गेंदबाजी आक्रमण है लेकिन उसके बल्लेबाजों ने निराश किया । क्वालीफायर में चमके रिची बैरिंगटन, जॉर्ज मुंसी और मैथ्यू क्रॉस सुपर 12 में नहीं चल पाये.

दोनों टीमें
स्कॉटलैंड: काइल कोएत्जर (कप्तान), रिची बेरिंगटन, डायलन बज, मैथ्यू क्रॉस, जोश डेवी, एलेस्डेयर इवांस, क्रिस ग्रीव्स, माइकल लीस्क, कैलम मैकलियोड, जॉर्ज मुन्सी, साफयान शरीफ, हमजा ताहिर, क्रेग वॉलेस, मार्क वॉट और ब्रेडली व्हील.

न्यूजीलैंड: केन विलियमसप (कप्तान), टॉड एस्टल, ट्रेंट बोल्ट, मार्क चैपमैन, डेवोन कोंवे, लॉकी फर्ग्युसन, मार्टिन गुप्टिल, काइल जैमीसन, डेरिल मिशेल, जिम्मी नीशाम, ग्लेन फिलिप्स, मिशेल सेंटनेर, टिम सीफर्ट, ईश सोढी, टिम साउदी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here