T20 World Cup: 3 खिलाड़ी होते तो टीम इंडिया की तस्वीर अलग होती, सेलेक्टर्स से लेकर टीम मैनेजमेंट तक ने की गलती

0
9


नई दिल्ली. टीम इंडिया (Team India) टी20 वर्ल्ड कप से बाहर हो गई. टूर्नामेंट में (T20 World Cup 2021) रविवार को न्यूजीलैंड ने अफगानिस्तान को 8 विकेट से हराया. इसके साथ ही टीम इंडिया की उम्मीद खत्म हो गई. मैच में (Afghanistan vs New Zealand) अफगानिस्तान ने पहले खेलते हुए 8 विकेट पर 124 रन बनाए थे. जवाब में न्यूजीलैंड ने लक्ष्य को 2 विकेट पर हासिल कर लिया. यह न्यूजीलैंड की 5 मैचों में चौथी जीत है. उसके 8 अंक है. टीम इंडिया के अभी 4 मैच में 4 अंक हैं. टीम यदि सोमवार को नामीबिया (Namibia) को हरा भी देती है तो उसके 6 ही अंक होंगे. टूर्नामेंट के पहले ही सेलेक्टर्स ने लगभग प्लेइंग-11 बना ली थी. इस कारण सीनियर खिलाड़ियों को नजरअंदाज किया गया. अगर इन तीन खिलाड़ियों को टीम में जगह मिलती तो परिणाम अलग हो सकते थे.

शिखर धवन (Shikhar Dhawan): बाएं हाथ के सीनियर बल्लेबाज शिखर धवन ने आईपीएल 2021 में शानदार प्रदर्शन किया था. उन्होंने 39 की औसत से 587 रन बनाए थे. विराट कोहली और रोहित शर्मा से भी अच्छा प्रदर्शन. ऐसे में उन्हें ईशान किशन या सूर्यकुमार यादव की जगह टीम में जगह दी जा सकती थी. धवन ने आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स को कई मैच में अच्छी शुरुआत दिलाई. टीम इंडिया पहले 2 मैच में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ अच्छी शुरुआत नहीं कर सकी थी. यह टीम पर भारी पड़ा. धवन टी20 इंटरनेशनल में 1700 से अधिक रन बना चुके हैं. ओवरऑल टी20 में उनके पास 300 से अधिक मैच का अनुभव है. 65 बार 50 से अधिक रन बनाए हैं.

युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal): लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने भी आईपीएल 2021 में अच्छा प्रदर्शन किया. खासकर यूएई में खेले गए दूसरे चरण में. फिर भी उन्हें टी20 वर्ल्ड कप टीम में जगह नहीं मिली. 31 साल के चहल ने 18 विकेट लिए. उनकी इकोनॉमी 7 के आस-पास रही. फिर भी राहुल चाहर को टीम में शामिल किया गया. चाहर ने आईपीएल में 13 विकेट लिए थे. चहल ने टी20 इंटरनेशनल में 63 विकेट लिए हैं. टी20 वर्ल्ड कप से पहले वे टीम की ओर से सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे. वे ओवरऑल टी20 में 241 विकेट झटक चुके हैं.

आवेश खान (Avesh Khan): 24 साल के युवा तेज गेंदबाज आवेश खान ने आईपीएल 2021 में 19 की औसत से 24 विकेट लिए थे. वे सबसे अधिक विकेट लेने के मामले में दूसरे नंबर पर थे. उनके पास अच्छी गति भी थी. उनका प्रदर्शन सीनियर गेंदबाज मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार से भी अच्छा था. फिर भी उन्हें नजरअंदाज किया गया. उनकी गति के कारण ही उन्हें इंग्लैंड दौरे पर टीम के साथ रखा गया था. लेकिन टी20 वर्ल्ड कप जैसे अहम टूर्नामेंट में उन्हें नहीं चुना गया.

अश्विन और राहुल को लेकर मैनेजमेंट के पास प्लान नहीं

टी20 वर्ल्ड कप से पहले सीनियर गेंदबाज आर अश्विन (R Ashwin) को टीम में जगह मिली थी. उन्हें 4 साल बाद टीम इंडिया में जगह मिली थी. लेकिन उन्हें टी20 वर्ल्ड कप के सबसे अहम मैच में यानी पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ उतारा ही नहीं गया. ऐसे में अश्विन को टीम में चुने जाने का कोई औचित्य नहीं था. अश्विन ने इसके बाद पहले ही मैच में अफगानिस्तान के खिलाफ 2 विकेट लेकर खुद को साबित किया. इसके अलावा राहुल चाहर को चुने जाने के समय यह बात कही गई थी कि वो तेज गति से गेंदबाजी करते हैं. ऐसे में वे यूएई की पिच पर टीम के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं. लेकिन उन्हें भी अब तक एक भी मैच में मौका नहीं दिया गया.

यह भी पढ़ें: T20 World Cup: विराट कोहली के कोच ने भुवनेश्वर और शमी के प्रदर्शन पर उठाए सवाल, चहल पर कही बड़ी बात

टीम में कप्तान विराट कोहली के अलावा, सीनियर बल्लेबाज रोहित शर्मा, मेंटॉर और पूर्व वर्ल्ड चैंपियन कप्तान एमएस धोनी, कोच रवि शास्त्री सभी थे. लेकिन पूरा मैनेजमेंट अच्छी प्लेइंग-11 तक नहीं चुन सका. इस कारण उसे टूर्नामेंट के पहले ही राउंड से ही बाहर होना पड़ा. टीम 2007 से यानी 14 साल से टी20 वर्ल्ड कप का इंतजार ही कर रही है. अगले साल ऑस्ट्रेलिया में एक और टी20 वर्ल्ड कप होना है. यानी एक साल से कम का समय है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here