NZ vs ENG T20 World Cup: रग्बी कोच के बेटे ने सबसे बड़ी पारी खेलकर न्यूजीलैंड को फाइनल में पहुंचाया, खुद पिता बने गवाह

0
12


नई दिल्ली. न्यूजीलैंड ने 2019 विश्व कप फाइनल में इंग्लैंड (NZ vs ENG T20 World Cup Semifinal) से मिली हार का बदला ले लिया. कीवी टीम ने टी20 विश्व कप के पहले सेमीफाइनल में इंग्लैंड को 6 गेंद रहते ही 5 विकेट से हराया. इस जीत के साथ ही न्यूजीलैंड विश्व कप के फाइनल में पहुंच गया. जहां, उसका मुकाबला ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के बीच होने वाले दूसरे सेमीफाइनल की विजेता टीम से होगा. न्यूजीलैंड की जीत के हीरो रहे डेरिल मिचेल (Daryl Mitchell). उन्होंने सेमीफाइनल में अपने करियर की सबसे बड़ी पारी खेली. मिचेल ने 4 छक्के और 4 चौकों की मदद से 47 गेंद में नाबाद 72 रन ठोके. यह टी20 में उनकी पहली फिफ्टी है.

इस एक पारी ने मिचेल को रातों-रात न्यूजीलैंड का सितारा बना दिया है और कीवी टीम को टी20 की विश्व चैम्पियन बनने की दहलीज पर ला दिया. दिलचस्प बात यह मिचेल को इसी साल मई में पहली बार न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में शामिल किया था. कम ही लोगों को यह बात पता होगी कि डेरिल मिचेल के पिता जॉन मिचेल (John Mitchell) न्यूजीलैंड के लिए रग्बी खेल चुके हैं और कोच रहे हैं.

मिचेल भी बचपन से ही रग्बी के माहौल में रहे और न्यूजीलैंड के बड़े रग्बी खिलाड़ियों के साथ वो ट्रेनिंग भी करते थे. हालांकि, उन्हें हमेशा से ही क्रिकेटर बनना था. मिचेल को 18 साल की उम्र में अपने स्कूल की रग्बी टीम से जुड़ने का मौका मिला. लेकिन उन्होंने क्रिकेट को चुना और उसके बाद से ही मिचेल की जिंदगी बदल गई.

मिचेल ने 2019 में टेस्ट डेब्यू किया था
मिचेल को 2019 में चोटिल कोलिन डि ग्रैंडहोम की जगह न्यूजीलैंड की टेस्ट टीम में जगह मिली. उन्होंने टेस्ट की पहली ही पारी में 73 रन जड़कर अपने इरादे जता दिए थे. इस मैच में उन्होंने अच्छी गेंदबाजी भी की. जल्द ही घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन के दम पर उन्हें न्यूजीलैंड की टी20 टीम में भी जगह मिल गई. मिचेल न्यूजीलैंड के घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट सुपर स्मैश में बड़े मैच फिनिशर बनकर उभरे. घरेलू क्रिकेट में बीते 5 साल में उनसे ज्यादा छक्के किसी बल्लेबाज ने नहीं मारे हैं.

मिचेल ने पहली बार टी20 विश्व कप में ही ओपनिंग की
मिचेल टी20 विश्व कप के लिए पहली पसंद नहीं थे. चोट के कारण कॉलिन डि ग्रैंडहोम 2020-21 घरेलू सीजन से बाहर हो गए. ऑलराउंडर होने की वजह से डेरिल उनकी जगह टी20 विश्व कप के स्कॉड में जगह बनाने में सफल रहे. अपने करियर के शुरुआती दौर में मिचेल मिडिल ऑर्डर में बल्लेबाजी करते थे. लेकिन टी20 वर्ल्ड कप के लिए उन्हें कीवी टीम ने एक नई जिम्मेदारी सौंपी. मिचेल को पहली बार विश्व कप में ही सलामी बल्लेबाज के तौर पर उतारा गया. उन्होंने पहले ही मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 27 रन बनाकर न्यूजीलैंड की टीम मैनेजमेंट के इस फैसले को सही साबित किया.

World Cup Hero: 3 बहनों ने वॉलीबॉल चुना, पर छोटे भाई ने थामा बल्ला, अब बनेगा देश का सबसे सफल कप्तान

पिता डेरिल की ऐतिहासिक पारी के गवाह बने
इसके बाद, मिचेल ने भारत के खिलाफ 49 रन बनाकर न्यूजीलैंड को जीत दिलाई. उन्होंने स्कॉटलैंड, नामीबिया औऱ अफगानिस्तान के खिलाफ भी अच्छी शुरुआत की. लेकिन जल्दी आउट हो गए. लेकिन जब सबसे बड़े मैच की बारी आई, तो मिचेल ने अपने टी20 करियर की सबसे बड़ी पारी खेल दी. उन्होंने 49 गेंद में नाबाद 72 रन बनाए और उनकी टीम टी20 विश्व कप के फाइनल में पहुंच गई.

खुद पिता डेरिल की इस ऐतिहासिक पारी के गवाह बने. वो न्यूजीलैंड से खास इस मैच को देखने के लिए अबु धाबी आए थे और बेटे ने भी पिता और न्यूजीलैंड के लाखों क्रिकेट फैंस को खुशी का मौका दे दिया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here