IND vs NZ: अजिंक्य रहाणे को कप्तान बनाने पर पूर्व क्रिकेटर ने उठाए सवाल, बोले- सेलेक्शन में भी संदेह था

0
8


नई दिल्ली. भारत के पूर्व टेस्ट सलामी बल्लेबाज आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट (India vs New Zealand) के लिए अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को कप्तानी देने के फैसले पर निशाना साधा है. अजिंक्य रहाणे कानपुर में न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में टीम का नेतृत्व करने के लिए तैयार हैं. इसके बाद विराट कोहली (Virat Kohli) लाइन-अप में लौटेंगेऔर मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में दूसरे टेस्ट में टीम का नेतृत्व करेंगे. नवनियुक्त टी20 इंटरनेशनल कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में आराम को लेकर विवाद में थे. ऐसे में रोहित और विराट की गैरमौजूदगी में रहानें को नेतृत्व की जिम्मेदारी सौंपी गई. रहाणे पिछले कुछ वर्षों से टेस्ट टीम के उप-कप्तान रहे हैं और इस साल की शुरुआत में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में प्रतिष्ठत बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में तीन मैचों के लिए टीम का नेतृत्व किया था. भारत ने इस ट्रॉफी को शानदार अंदाज में जीता था.

पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा हालांकि, अजिंक्य रहाणे को कप्तानी देने के फैसले से चिंतित हैं, क्योंकि टीम में उनके चयन को लेकर संदेह था. अपने यूट्यूब चैनल पर आकाश चोपड़ा ने कहा, “आपने अजिंक्य रहाणे को कप्तान के रूप में चुना है. लेकिन सच्चाई यह भी है कि इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी टेस्ट में उनके चुने जाने पर सवाल बना हुआ था. हालांकि, वह इंग्लैंड और भारत के बीच वह अंतिम टेस्ट नहीं हो पाया था.” उन्होंने कहा, ”मैं अजिंक्य रहाणे को काफी ज्यादा पसंद करता हूं, लेकिन सच यह है कि उनके औसत में गिरावट ही देखी गई है. निश्चित तौर पर बीच में कुछ अच्छी पारी हुई, लेकिन पिछले दो वर्षों में औसत में 20 अंक की गिरावट आई है. रहाणे का औसत इतना नीचे कभी नहीं गया.”

मैथ्यू वेड: कारपेंटर से ऑस्ट्रेलिया को टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचाने वाला हीरो

‘लॉर्ड्स के अर्धशतक ने रहाणे को बाहर होने से बचाया’
आकाश चोपड़ा ने कहा कि लॉर्ड्स में अर्धशतक ने अजिंक्य रहाणे को बाहर होने से बचा लिया और दावा किया कि न्यूजीलैंड सीरीज उनके करियर के लिए महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा, ”अगर उन्होंने लॉर्ड्स में अर्धशतक नहीं बनाया होता (पुजारा के साथ दूसरी पारी में साझेदारी) तो यह एक और चर्चा का विषय होता. अगर आपको अज्जू के लिए भी एक विकल्प खोजना होता. अगर रोहित शर्मा उपकप्तान होंगे और अजिंक्य को नोटिस दिया जा सकता है, लेकिन इस समय उन्हें कप्तान बनाया गया है.”

पिछले काफी वक्त से खामोश हैं अजिंक्य रहाणे का बल्ला
दरअसल, पिछले साल अपनी कप्तानी में भारत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ऐतिहासिक सीरीज जिताने वाले रहाणे का उसके बाद से ही बल्ला खामोश है. इंग्लैंड के खिलाफ 4 टेस्ट और विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप में रहाणे बड़ी पारी नहीं खेल पाए थे. इसके बाद से ही प्लेइंग-11 में उनकी जगह पर सवाल खड़े हो रहे हैं. पिछले साल मेलबर्न टेस्ट के बाद से रहाणे ने 11 टेस्ट खेले हैं और महज 19 के औसत से 372 रन बना पाए हैं.

जसप्रीत बुमराह से मिलता है गेंदबाजी एक्शन, नवीन उल हक बोले- अगर उनका 50 प्रतिशत भी बन गया तो…

‘अजिंक्य रहाणे के लिए सीरीज अहम, बनाने होंगे रन’
उन्होंने आगे कहा, ”रहाणे के लिए यह काफी अहम सीरीज है. वह एक कप्तान के रूप में हैं, लेकिन उन्हें रन बनाने होंगे क्योंकि दबाव है. पिछले एक साल उनके मानकों से वास्तव में सामान्य रहा है, वास्तव में किसी भी मानक से.” हाल ही में इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई सीरीज में अजिंक्य रहाणे ने 7 पारियों में 15.57 की औसत से सिर्फ 109 रन बनाए. वास्तव में, 2020 की शुरुआत के बाद से अजिंक्य रहाणे ने 27 टेस्ट पारियों में 24.76 के औसत से कम के साथ केवल 644 रन बनाए हैं और उनके नाम सिर्फ एक शतक और दो अर्धशतक हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here