कपिल देव ने कोहली-शास्त्री युग का रिपोर्ड कार्ड बनाया, बताया- क्या रही कमी

0
8


नई दिल्ली. आईसीसी टी20 विश्व कप 2021 (ICC T20 World Cup 2021) के समापन के साथ भारतीय क्रिकेट (Indian Cricket) में विराट कोहली-रवि शास्त्री (Virat Kohli-Ravi Shastri) युग का अंत हो गया है. शास्त्री ने जहां नए मुख्य कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को बागडोर सौंपी है, वहीं विराट कोहली की जगह भारत के टी20 कप्तान के रूप में रोहित शर्मा (Rohit Sharma) आए हैं. कोहली और शास्त्री 2017 से चार साल के लिए कप्तान और कोच के रूप में शामिल हुए थे. इस दौरान भारतीय क्रिकेट ने अभूतपूर्व सफलता हासिल की है. ‘मेन इन ब्लू’ ने घरेलू और विदेशी दोनों जगहों पर कई सफेद गेंद की सीरीज जीतीं. टीम ने ऑस्ट्रेलियाई धरती पर दो टेस्ट सीरीज भी जीतने का कारनामा करके दिखाया.

हालांकि, शास्त्री और कोहली के कार्यकाल की सबसे बड़ी कमी यही रही कि यह जोड़ी कोई भी आईसीसी खिताब नहीं जीत पाई. पूर्व मुख्य कोच शास्त्री के नेतृत्व में, भारत ने तीन आईसीसी इवेंट – 2019 विश्व कप, विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप और हाल ही में संपन्न टी20 विश्व कप 2021 खेला, लेकिन एक बार भी ट्रॉफी जीतने का गौरव प्राप्त नहीं कर सका.

राहुल द्रविड़ अभी से तैयार कर रहे हैं अगले टी20 वर्ल्ड कप के लिए टीम? रोहित शर्मा ने किया इशारा

2007 के वनडे वर्ल्ड कप के बाद सबसे खराब प्रदर्शन
इस बीच, पूर्व भारतीय विश्व विजेता कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) ने रवि शास्त्री के नेतृत्व में टीम इंडिया के प्रदर्शन का सारांश देते हुए एक रिपोर्ट कार्ड पेश किया है. हालांकि, कपिल ने कहा कि राष्ट्रीय टीम ने शानदार काम किया है. उन्होंने कहा कि आईसीसी खिताब की अनुपस्थिति कुछ ऐसी है, जो शास्त्री और कोहली के कार्यकाल को अधूरा बनाती है. टी20 वर्ल्ड कप 2021 में टीम इंडिया के जल्दी बाहर होने की बात करते हुए कपिल ने माना कि 2007 के वनडे वर्ल्ड कप के बाद यह पहला मौका था, जब भारत इतने खराब प्रदर्शन के साथ लौटा.

आईसीसी ट्रॉफी की सबसे बड़ी कमी है
कपिल देव ने अनकट के साथ इंटरव्यू में कहा, ”मुझे लगता है कि दोनों ने शानदार काम किया है. मैं समझता हूं कि वे भारत को एक बड़ी ट्रॉफी नहीं दिला सके, लेकिन अगर हम पिछले पांच वर्षों को देखें, जब से कोहली ने पदभार संभाला है, कुछ भी कमी नहीं रही है. आईसीसी ट्रॉफी की सबसे बड़ी कमी है. इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड में भारत ने जीत हासिल की है… उन्होंने जहां भी यात्रा की है, उन्होंने दूसरी टीम को मात दी है.” उन्होंने कहा, ”वर्ल्ड कप नॉकआउट में पहुंचना भी बहुत बड़ी बात है. मुझे लगता है कि वेस्टइंडीज में 2007 वनडे विश्व कप के बाद, यह टी20 विश्व कप है, जहां ऐसा लगा कि भारत निराशाजनक था. अगर वे शीर्ष 4 में पहुंचते और फिर हार जाते, तो यह समझ में आता है. लेकिन अगर आप टॉप 4 में नहीं पहुंचे तो आलोचना होगी.”

IND vs NZ: वेंकटेश अय्यर को रोहित और द्रविड़ ने दिया इंटरनेशनल डेब्यू का मौका, आईपीएल में मचाया था धमाल

 कपिल देव ने विराट-शास्त्री को दिए 90 अंक
कुल मिलाकर कपिल देव ने भारत के प्रदर्शन को 100 में से 90 अंक दिए. उन्होंने आईसीसी ट्रॉफी की कमी के कारण 10 अंक की कटौती की. पूर्व ऑलराउंडर ने कहा, ”अगर आप इसे ट्रॉफी के नजरिए से देखें तो यह बिल्कुल अलग बात है. लेकिन अगर आप उनके क्रिकेट को देखें, जिस ब्रांड को उन्होंने पिछले पांच वर्षों में खेला है, तो मैं उन्हें 100 में से 90 अंक दूंगा. आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीतने पर 10 अंक काट दूंगा.”

Tags: Cricket news, Kapil dev, Rahul Dravid, Ravi shastri, Rohit sharma, T20 World Cup, T20 World Cup 2021, Virat Kohli





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here