रोहित शर्मा ने बताया, भारत के आईसीसी टूर्नामेंट की विफलताओं में क्या है एक जैसी बात

0
27

[ad_1]

नई दिल्ली. रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को हाल ही में भारतीय क्रिकेट टीम का वनडे कप्तान बनाया गया है. इससे पहले आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप 2021 के बाद विराट कोहली (Virat Kohli) ने टी20 इंटरनेशनल की कप्तानी छोड़ी थी, तब यह जिम्मेदारी भी रोहित को ही सौंपी गई थी. अब रोहित शर्मा भारत के लिमिटेड ओवरों के कप्तान हैं. हालांकि ऐसे कई कारण हैं, जिनकी वजह से भारत की सीमित ओवरों की टीमों में कप्तानी में बदलाव आया, लेकिन जब खिताब जीतने की बात आती है तो एक कप्तान के रूप में रोहित की सफलता दर निश्चित रूप से उनके पक्ष में काम करने वालों में से एक है.

विराट कोहली की कप्तानी में भारत आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017, वनडे विश्व कप 2019 और टी20 विश्व कप 2021 में सफेद गेंद वाले क्रिकेट की बात करने में विफल रहा. रोहित शर्मा ने आईसीसी के इन तीनों बड़े टूर्नामेंट पर बात करते हुए एक समानता बताई है. रोहित ने कहा कि ‘मेन इन ब्लू’ शीर्ष क्रम की विफलताओं से उबरने में विफल रहा, जिसके कारण उन्हें अंत में हार का सामना करना पड़ा. रोहित शर्मा ने एक्सट्रा टाइम से बातचीत में कहा, ”चैंपियंस ट्रॉफी (2017), विश्व कप 2019 और यहां तक ​​कि टी20 विश्व कप 2021 में भी यह खेल का वह प्रारंभिक चरण था, जहां हम हार गए थे. यह कुछ ऐसा है, जिसे मैं ध्यान में रखूंगा.”

T20 WC में झटके थे सबसे अधिक विकेट, अब बताया- विराट कोहली के अलावा किन 2 बल्लेबाजों को आउट करना चाहते हैं

आगामी आईसीसी आयोजनों के लिए एक योजना तैयार करते हुए 34 वर्षीय सलामी बल्लेबाज ने कहा कि इन सबसे खराब परिस्थितियों के लिए टीम को तैयार करने पर एक नेता के रूप में उनका ध्यान केंद्रित होगा. रोहित शर्मा ने कहा, ”हमें सबसे बुरे के लिए तैयार रहना होगा. हमें उस स्थिति के लिए तैयार रहना होगा, जब टीम 10/3 पर हो. इसी तरह मैं आगे बढ़ना चाहता हूं. ऐसा कहीं नहीं लिखा है कि अगर आप 10/3 के हैं, तो आपको 180 या 190 रन नहीं मिल सकते. मैं चाहता हूं कि लोग इस तरह से तैयारी करें.”

उन्होंने आगे कहा, ”मान लीजिए कि आप सेमीफाइनल खेल रहे हैं. हम पहले दो ओवरों में 10/2 हैं. हम क्या करें? क्या योजना है? मैं खुद को उस स्थिति में रखना चाहता हूं और देखना चाहता हूं कि हम उस पर कैसे प्रतिक्रिया देते हैं.” 2021 के टी20 विश्व कप के बारे में बोलते हुए रोहित ने कहा कि हालांकि भारत के पास टूर्नामेंट शुरू होने से पहले खुद को परखने के लिए कुछ गेम थे, लेकिन दोनों मैचों में उनका प्रदर्शन बहुत समान था (पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ).

रवि शास्त्री का दावा- पूरी कोशिश की गई कि मैं टीम इंडिया का कोच ना बन सकूं

टीम इंडिया के सीमित ओवरों के कप्तान ने कहा, ”विश्व कप से पहले हमें कुछ मैच मिले और हमने खुद को परखने की कोशिश की. अगर आप इसे देखें, तो हम सभी विश्व कप खेलों में एक समानता देखते हैं, जो हम हार गए थे. तीन आईसीसी टूर्नामेंटों में 2 पाकिस्तान खेल और एक न्यूजीलैंड खेल. लेकिन ऐसा हो सकता है. मैं समझता हूं कि गेंदबाजी की गुणवत्ता असाधारण है. यह तीन बार हुआ है, मुझे आशा है कि यह चौथी बार नहीं होगा. उम्मीद है कि हम इसके लिए तैयारी करते रहेंगे.”

टीम इंडिया ने कप्तानी में इस बदलाव के साथ 2022 टी20 वर्ल्ड कप और 2023 वनडे वर्ल्ड कप पर अपनी नजरें जमा ली हैं. यह जिम्मेदारी कप्तान रोहित और मुख्य कोच राहुल द्रविड़ पर होगी कि वे ग्रुप से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें. साथ ही उन गलतियों को ठीक करें, जो उन्हें हाल ही में आईसीसी खिताबों की कीमत पर चुकानी पड़ी हैं.

Tags: Champions Trophy 2017, Cricket news, Rahul Dravid, Rohit sharma, T20 World Cup 2021, Team india, Virat Kohli



[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here