IND vs SA : श्रेयस अय्यर या फिर हनुमा विहारी, या दोनों ? जानिए सेंचुरियन में कैसी हो सकती है प्लेइंग-11

0
30

[ad_1]

नई दिल्ली. भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच सेंचुरियन में 26 दिसंबर से बॉक्सिंग डे टेस्ट खेला जाएगा. इस टेस्ट से पहले कई खिलाड़ियों के चोटिल होने की वजह से भारतीय टीम मैनेजमेंट के सामने बेस्ट प्लेइंग-11 चुनने की चुनौती होगी. इसमें श्रेयस अय्यर और हनुमा विहारी को लेकर सबसे ज्यादा पसोपेश होगी. क्या सेंचुरियन में श्रेयस अय्यर या फिर हनुमा विहारी खेलेंगे, या इन दोनों को मौका मिलेगा ?
ये कुछ ऐसे सवाल हैं जो टीम मैनेजमेंट को साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ सेंचुरियन टेस्ट की एक रात पहले तक परेशान करते रहेंगे.

रवींद्र जडेजा इस दौरे से बाहर हैं, लिहाज़ा पांच गेंदबाज़ों वाला संतुलन अगर बनाना हुआ, तो फिर कप्तान और टीम मैनेजमेंट को कुछ कड़े फ़ैसले लेने पड़ सकते हैं. लिहाज़ा हर विकल्प खुला हुआ है यहां तक कि फॉर्म से जूझ रहे अनुभवी अजिंक्य रहाणे पर भी जगह बचा पाने का दबाव बना हुआ है.

श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) के हक में जो बात जा रही है, वह ये है कि उन्हें न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ घरेलू टेस्ट सीरीज़ में जो मौका मिला, उसे उन्होंने डेब्यू पर ही शतक और अर्धशतक जड़ते हुए भुना लिया. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में भी अय्यर का प्रदर्शन शानदार रहा है. उन्होंने अब तक 56 फर्स्ट क्लास मैच में 80.22 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं. यह इस बात का सबूत है कि वो रेड बॉल क्रिकेट के लिए काफी पहले ही तैयार हो चुके हैं.

जब हुनमा विहारी (Hanuma Vihari) दक्षिण अफ्रीका में रन बना रहे थे, तब अय्यर न्यूजीलैंड के टेस्ट आक्रमण के खिलाफ वही काम कर रहे थे. बस, फर्क इतना था कि वह सेंचुरियन और वांडरर्स के बजाय ग्रीन पार्क और वानखेड़े में ऐसा कर रहे थे. लेकिन उनकी बल्लेबाजी को किसी भी स्तर पर कमतर नहीं आंका जा सकता. हालांकि, अगर उन्हें दक्षिण अफ्रीका में मौका मिलता है तो स्थितियां पूरी तरह से अलग होंगी.

अय्यर टेस्ट क्रिकेट के पहले से तैयार हैं
मिसाल के तौर पर कानपुर में श्रेयस अय्यर की पहली पारी को ही ले लीजिए. इस टेस्ट के दूसरे दिन की सुबह काइल जेमिसन ने खराब गेंदबाजी की और अय्यर ने इसका पूरा फायदा उठाते हुए पांच ओवर में 6 चौके लगाए. हालांकि, तब तक अय्यर ने न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजों की 32 गेंदों का सामना करते हुए सिर्फ 7 रन बनाए थे. वहीं, स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ 104 गेंद में 68 रन ठोके थे. अय्यर ने अब तक वही किया है जो इस दौर के बल्लेबाज़ करते हैं, यानि तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ संभल कर खेलना और ख़राब गेंदों का इंतज़ार करना.

तो वहीं मयंक अग्रवाल ने भी मुंबई टेस्ट के दौरान कुछ वैसी ही पारी खेली थी. मयंक ने 150 रन की उस पारी के दौरान तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ 119 गेंदों पर 45 रन बनाए थे, जबकि स्पिनर्स के ख़िलाफ़ 192 गेंदों पर 105 रन बनाए थे.

दोनों पारियां उपमहाद्वीप की परिस्थितियों में यह दिखाने वाली साबित हुईं कि अगर स्पिन गेंदबाज लाइन और लेंथ में जरा सा भी चूकता है तो उसे कितना बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है. लेकिन ना तो अय्यर और न ही अग्रवाल को दक्षिण अफ्रीका में इस तरह की बल्लेबाजी का मौका मिलने वाला है. पिछली बार जब भारत ने यहां का दौरा किया था तब दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाजों ने सीरीज में कुल 91 फीसदी गेंद फेंकी थी.

IND vs SA: श्रेयस अय्यर सेंचुरियन की पिच पर ज्यादा घास देखकर डरे ! कोच द्रविड़ ने दी छोटी सी सलाह

विहारी ने 12 में से 11 टेस्ट घर से बाहर खेले

विहारी के लिए क्या विकल्प है? 12 में से 11 टेस्ट मैच उन्होंने घर से बाहर खेले हैं और इस दौरान उन्होंने ख़ुद को साबित भी किया है. तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ उनकी तक़नीक बेहतरीन है, ओवल में खेले अपने डेब्यू टेस्ट में ही विहारी ने अर्धशतक जड़ा था. इसके बाद लाल ड्यूक गेंद से वेस्टइंडीज़ के तेज़ गेंदबाज़ों के सामने, उन्हीं के घर में विहारी ने 93 और 111 रन की पारी भी खेली. क्राइस्टचर्च टेस्ट में न्यूज़ीलैंड की सीम गेंदबाज़ी के ख़िलाफ़ उनकी 55 रन की पारी आज भी फैंस को याद है और फिर एक पैर चोटिल होने के बावजूद सिडनी टेस्ट में 237 गेंदों का सामना करते हुए भारत की हार टालने वाली पारी को भला कौन भूल सकता है.

एजाज पटेल अंडर-19 टीम में नहीं चुने जाने पर फूट-फूटकर रोए थे, पिता की एक बात बनी टर्निंग प्वाइंट

विहारी या अय्यर में किसे मिलेगा मौका ?
टेस्ट में 32.84 की औसत रखने वाले विहारी पहले टेस्ट में जगह बना पाएंगे या नहीं, इस पर कुछ भी साफ कुछ नहीं कहा जा सकता है. भले ही आप इस बहस कर सकते हैं कि हमेशा ही विहारी चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भारत के लिए खेलते हैं. भारत के बाहर जिन 11 टेस्ट में उन्होंने खेला है उसमें उनकी औसत (34.11) चेतेश्वर पुजारा (34.00) और विराट कोहली (32.11) से ज़्यादा है. फिर भी अगर अय्यर बॉक्सिंग डे टेस्ट में विहारी पर भारी पड़ते नजर आते हैं तो हैरानी वाली बात नहीं होगी.

आखिर में बात फिर वहीं आकर रुक जाती है कि सेंचुरियन में भारतीय मिडिल ऑर्डर में कौन रहेगा और किसका पत्ता कटेगा- अय्यर या विहारी या फिर दोनों? ये ऐसा मुश्किल सवाल है जिसका न तो कोई सही जवाब हो सकता है और ना ही गलत.

Tags: Ajinkya Rahane, Cricket news, Hanuma vihari, Ind vs sa, India vs South Africa, Shreyas iyer



[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here