Year Ender : कोरोना ने ‘फ्लाइंग सिख’ को छीना, 1 ही दिन में हॉकी के दो सितारे गए; इन क्रिकेटरों ने भी अपनों को खोया

0
35

[ad_1]

नई दिल्ली. कोरोनावायरस का असर भले ही अब कुछ कम हुआ है. लेकिन बीते 2 साल में इस वायरस ने दुनिया भर में मौत का ऐसा तांडव मचाया कि शायद ही कोई होगा, जो इसके कहर से बचा हो. इस वायरस ने 2021 में खेल की दुनिया में भारत का परचम बुलंद करने वाले कई दिग्गजों को हमसे छीन लिया. इसमें सबसे बड़ा नाम है ‘फ्लाइंग सिख’ यानी मिल्खा सिंह (Milkha Singh). 91 साल के इस दिग्गज स्प्रिंटर का निधन इसी साल जून में कोरोनावायरस के कारण हुआ. जिस तरह मिल्खा ट्रैक पर बड़े-बड़े एथलीट्स से टक्कर लेने में नहीं हिचकते थे. उन्होंने इस वायरस से भी पूरे 1 महीने संघर्ष किया. कभी उनकी तबीयत बेहतर हो जाती, तो कभी खराब. आखिरकार 18 जून की रात को वो इस दुनिया से रुखसत कर गए.

मिल्खा सिंह (Milkha Singh) से कुछ दिन पहले ही उनकी पत्नी और भारतीय वॉलीबॉल टीम की पूर्व कप्तान निर्मल कौर (Nirmal Kaur) ने भी कोरोना संक्रमण के कारण दम तोड़ा था. इसके अलावा क्रिकेट की दुनिया में भी कोरोना ने अपना कहर बरपाया. भारत ही नहीं, दुनिया भर में इस वायरस के कारण कई पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों, फर्स्ट क्लास क्रिकेटर और क्रिकेट प्रशासकों ने अपनी जान गंवाई. इसमें दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ऑलराउंडर जॉन वॉटकिंस (John Watkins) भी शामिल हैं. दक्षिण अफ्रीका के लिए 15 टेस्ट खेलने वाले वॉटकिंस का निधन 3 सितंबर, 2021 को डरबन में हुआ था. वॉटकिंस 98 वर्ष के थे, जो उस समय के सबसे उम्रदराज जीवित टेस्ट क्रिकेटर थे.

उनके अलावा राजस्थान की तरफ से घरेलू क्रिकेट खेल चुके 36 साल के लेग स्पिनर विवेक यादव (Vivek Yadav) का भी कोरोना के कारण निधन हुआ था. विवेक ने जयपुर के हॉस्पिटल में 5 मई 2021 को दम तोड़ा था. विवेक 2010-11 और 2011-12 सीजन में रणजी ट्रॉफी जीतने वाली राजस्थान टीम के सदस्य थे. उन्होंने 2008 से 2013 के बीच फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 57 विकेट लिए थे.

विवेक के अलावा राजस्थान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और नेशनल सेलेक्टर रहे किशन रुंगटा (Kishan Rungta) को भी कोरोना हमसे छीन ले लिया. किशन ने 1953 से 1970 के बीच 59 प्रथम श्रेणी मैच खेले और 2717 रन बनाए. उनका निधन 1 मई, 2021 को जयपुर के एक अस्पताल में हुआ था. नेशनल सेलेक्टर होने के नाते उन्होंने 90 के दशक में मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में कई बार भारतीय क्रिकेट टीम चुनी.

हॉकी के दो अनमोल सितारे गए
इस साल कोरोना के कारण पूर्व भारतीय हॉकी प्लेयर एमके कौशिक (MK Kaushik) और रविंदर पाल सिंह (Ravinder Pal Singh) का निधन हुआ. इन दोनों ने एक ही दिन 8 मई को दुनिया छोड़ी. एमके कौशिक 1980 के मॉस्को ओलंपिक में आखिरी बार गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम के सदस्य थे. वो भारतीय हॉकी टीम के कोच भी रहे थे. उनके कोच रहते हुए भारतीय पुरुष टीम ने बैंकॉक एशियन गेम्स 1998 (Bangkok Asian Games 1998) में गोल्ड मेडल जीता था. वहीं, रविंदर पाल सिंह भी मॉस्को ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली टीम के सदस्य थे.

2021 में लड़ाई भारत और पाकिस्तान गेंदबाजों के बीच रही, आर अश्विन टेस्ट में नंबर-1, लेकिन?

इन भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों ने अपनों को खोया
भारतीय महिला क्रिकेट टीम की खिलाड़ी वेदा कृष्णमूर्ति (Veda Krishnamurti) के लिए 2021 कभी ना भूलने वाला साल रहा. उन्होंने इस वायरस के कारण अपनी मां और बहन को खोया. भारत के लिए खेल चुके आरपी सिंह, पीयूष चावला (Piyush Chawla) और प्रदीप शर्मा के पिता भी वायरस की चपेट में आने के कारण इस दुनिया से कूच कर गए.

Year Ender 2021: Dad’s Army बनी IPL चैंपियन, ‘बूढ़े कप्तान’ की एक बात ने किया टीम का कायापलट

इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय बॉडी बिल्डर जगदीश लाड (Jagdish Lad) का 34 साल की उम्र में इस साल 30 अप्रैल को कोरोना से निधन हुआ. वो मिस्टर इंडिया रह चुके थे और वर्ल्ड चैम्पियनशिप मे सिल्वर मेडल जीता था. इसके अलावा शूटर दादी के नाम से मशहूर 89 साल की निशानेबाज चंद्रो तोमर को भी कोरोना ने नहीं छोड़ा.

Tags: Cricket news, Milkha Singh Death, Piyush Chawla, RP singh, Sports news, Year Ender, Year Ender 2021



[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here