IND vs SA: टीम इंडिया है पहले 2 टेस्ट जीतने की मजबूत दावेदार, दक्षिण अफ्रीकी दिग्गज ने बताई वजह

0
28

[ad_1]

सेंचुरियन. भारत और दक्षिण अफ्रीका (IND vs SA) के बीच आज से 3 टेस्ट की सीरीज का सेंचुरियन में आगाज होने जा रहा है. भारत 29 साल से दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाया है. ऐसे में विराट कोहली (Virat Kohli) की टीम इंडिया के पास इस बार इतिहास बदलने का मौका है. खुद दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान अली बाकर का भी ऐसा ही मानना है. उन्होंने भारत को पहले दो 2 टेस्ट में जीत का मजबूत दावेदार माना है. बाकर का मानना है कि भारत के पास पिछले 30 सालों में सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाजी आक्रमण है और इसलिए वह तीन टेस्ट की सीरीज में जीत के प्रबल दावेदार के रूप में शुरुआत करेगा.

अली बाकर ने न्यूज 18 से खास बातचीत में कहा, “पहला टेस्ट मैच सेंचुरियन में खेला जाएगा जो समुद्र तल से 5000 फुट ऊपर और दूसरा जोहानिसबर्ग के वांडरर्स में खेला जाएगा, जो समुद्र तल से 6000 फुट ऊपर है. इन दो टेस्ट मैदानों की अलग तरह की भौगोलिक परिस्थितियां तथा वांडरर्स और सुपरस्पोर्ट पार्क में तेज उछाल वाली पिच आमतौर पर तेज गेंदबाजी के मुफीद होती है. भारतीय टीम के पास पिछले 30 वर्षों में सबसे अच्छा तेज गेंदबाजी आक्रमण है. इसलिए भारत पहले दो टेस्ट मैचों में जीत के प्रबल दावेदार के रूप में शुरुआत करेगा.”

बाकर के इस बयान से भारतीय फैंस जरूर खुश होंगे. उन्हें खेल की गहरी समझ भी है और उन्हें बुमराह (101 विकेट), शमी (195 विकेट), इशांत शर्मा (311 विकेट) और उमेश यादव (157 विकेट) की काबिलियत पता है. यह सभी गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के हालिया दौरों पर अपनी प्रतिभा दिखा चुके हैं. भारत के मौजूदा तेज गेंदबाजी आक्रमण को ढालने में बीते 4 साल में विराट कोहली ने काफी मेहनत की है.

विराट कोहली (Virat Kohli) को इस बात का पक्का यकीन है कि विदेश में तेज गेंदबाज ही भारत को जीत दिला सकते हैं. इसलिए उनका जोर विदेशी दौरों पर तेज गेंदबाजों पर रहा है. इसी रणनीति के दम पर भारत को बीते कुछ सालों में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में सफलता भी मिली है.

सेंचुरिय़न में भारत का रिकॉर्ड खराब
टीम इंडिया का दक्षिण अफ्रीका में रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं है. खासतौर पर भारत ने सेंचुरियन में दो टेस्ट खेले हैं और दोनों में उसे हार का सामना करना पड़ा है. ऐसे में इस बार भी भारत की राह आसान नहीं होने वाली है. सुपरस्पोर्ट पार्क की पिच तेज गेंदबाजों के अनुकूल मानी जाती है और इस टेस्ट के पहले दो दिन बारिश का अनुमान भी है. ऐसे में प्लेइंग-11 तय करने में मौसम भी बड़ा फैक्टर साबित होगा. बादल छाए रहने पर भारत 5 तेज गेंदबाजों के साथ भी उतर सकता है. हालांकि, कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने प्लेइंग-11 को लेकर कोई खुलासा नहीं किया है. उन्होंने कहा कि टॉस के वक्त ही प्लेइंग-11 को लेकर अंतिम फैसला होगा.

Ashes, ENG vs AUS: जो रूट ने बतौर कप्तान बना डाला असंभव रिकॉर्ड, विराट कोहली से मीलों आगे

इंटरनेट पैक बेचने वाला ‘पाकिस्‍तानी गेंदबाज’, विराट कोहली से जुड़े सपने को लेकर जानें क्‍या कहा

क्या शार्दुल ठाकुर को मिलेगा मौका ?
सेंचुरियन टेस्ट से पहले बीसीसीआई ने टीम के अभ्यास सत्र की जो तस्वीरें शेयर कीं थीं. इसमें शार्दुल ठाकुर भी कप्तान विराट कोहली और कोच राहुल द्रविड़ की देखरेख में बैटिंग प्रैक्टिस करते नजर आए. अगर यह किसी चीज की तरफ इशारा कर रहा है, तो यह कि भारत इस टेस्ट में 4 तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकता है और स्पेशलिस्ट स्पिनर की भूमिका में रविचंद्नन अश्विन नजर आ सकते हैं. शार्दुल चौथे तेज गेंदबाज की भूमिका निभा सकते हैं और तब भारत ऋषभ पंत को मिलाकर 6 स्पेशलिस्ट बल्लेबाजों के साथ उतर सकता है.

Tags: Cricket news, Ind vs sa, India vs South Africa, Ishant Sharma, Jasprit Bumrah, Virat Kohli

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here