Year Ender: ये हैं 2021 के 5 सुपर फ्लॉप टेस्ट क्रिकेटर

0
44

[ad_1]

नई दिल्ली. विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) का पहला चक्र 2021 में संपन्न हुआ, जिसमें न्यूजीलैंड विजेता रहा. जून 2021 में न्यूजीलैंड और भारत ने साउथेम्प्टन में फाइनल मुकाबला खेला, जिसमें न्यूजीलैंड रिजर्व डे पर विजयी हुआ. पूरी टीम खासकर कप्तान केन विलियमसन के शानदार प्रयास की बदौलत कीवी टीम ने अपना पहला आईसीसी खिताब जीता. विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप का दूसरा चक्र शुरू हो चुका है. फिलहाल दूसरे चक्र में श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया टेबल चार्ट में सबसे आगे हैं. टेस्ट क्रिकेट में यह साल कुछ खिलाड़ियों के लिए बेहद शानदार रहा तो वहीं, कुछ खिलाड़ियों के लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं रहा है.

मार्कस हैरिस (Marcus Harris): मार्कस हैरिस का 2021 में एक सामान्य वर्ष था. 2021 में ऑस्ट्रेलिया ने भारत और इंग्लैंड के खिलाफ केवल पांच टेस्ट खेले. मार्कस हैरिस अधिकांश खेलों में दिखाई दिए, लेकिन उनके कद के खिलाड़ी के लिए औसत दर्जे के आंकड़े थे. जब भारत ने 2021 में ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया तो मार्कस को ‘वॉकिंग विकेट’ कहा गया. चोटों के कारण अपने अधिकांश नियमित खिलाड़ियों के ना होने के बावजूद भारत ने एक बड़ी सीरीज जीती. हैरिस ने अपनी एकमात्र पारी में सिर्फ 43 रन बनाए. इंग्लैंड के खिलाफ एशेज सीरीज में 28 वर्षीय बल्लेबाज कभी भी शानदार फॉर्म में नहीं दिखे. उन्होंने दो टेस्ट मैचों में सिर्फ 38 रन बनाए.

Year Ender: भारत या पाकिस्तान, किसने 2021 में मारी बाजी? क्या विराट कोहली ने बाबर आजम को पछाड़ा?

बॉक्सिंग डे टेस्ट में, हालांकि, उन्होंने अपनी टीम को पहली पारी में शुरुआती बढ़त दिलाने में मदद करने के लिए शानदार 76 रन बनाए. मार्कस हैरिस इस साल 7 पारियों में केवल 157 रन ही बना पाए. इस दौरान उनका 26.2 औसत काफी खराब रहा. इस सीजन में वह केवल एक ही अर्धशतक लगा पाए. मार्कस हैरिस ने मिचेल स्टार्क से भी कम रन बनाए. स्टार्क ने 7 पारियों में 40.50 की औसत से 162 रन बनाए हैं.

रोस टेलर (Ross Taylor): उद्घाटन विश्व टेस्ट चैंपियनशिप जीतने के बावजूद न्यूजीलैंड के दिग्गज बल्लेबाज रोस टेलर बुरी तरह से फॉर्म से बाहर थे. उनके खराब खेल को उनके साथियों के उत्कृष्ट प्रयासों से काफी हद तक छुपाया गया था. वह कभी भी फॉर्म में नहीं रहे और न्यूजीलैंड के भारत दौरे के दौरान उनकी तकनीकी खामियां उजागर हो गईं. उनकी सर्वश्रेष्ठ पारी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल में भारत के खिलाफ आई थी, जब उन्होंने दूसरी पारी में महत्वपूर्ण 47 रन बनाकर न्यूजीलैंड को अपना पहला आईसीसी खिताब दिलाया. उस पारी के अलावा वह कभी भी बड़ा स्कोर नहीं बना पाए. उन्होंने सीरीज में इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट मैचों में केवल 127 रन बनाए.

Year Ender: विराट कोहली का एक रन 97 हजार का, पुजारा का एक रन लाखों में तो रोहित शर्मा का सबसे सस्ता

बाएं हाथ के स्पिनरों के खिलाफ उनकी तकनीकी कमियां उनके भारत के विनाशकारी दौरे के दौरान आसानी से उजागर हो गई थीं. दो टेस्ट मैचों में वह केवल 20 रन ही बना सके. उन्होंने 2021 में 10 पारियों में केवल 213 रन बनाए, जिनका औसत 23.7 से कम था. 80 के उच्चतम स्कोर के साथ उनके नाम एक अकेला अर्धशतक था. एक वरिष्ठ दिग्गज बल्लेबाज के रूप में टीम को उनसे बहुत अधिक उम्मीद थी, और वह स्पष्ट रूप से उम्मीदों पर खरे नहीं उतर सके.

अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane): साल 2021 में भारत के पूर्व उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे की फॉर्म में बड़ी गिरावट आई थी. मेलबर्न में बॉक्सिंग डे टेस्ट में एक प्रसिद्ध शतक के बाद वह बाद के दो टेस्ट मैचों में पूरी तरह से खराब फॉर्म में दिखे. उन्होंने दो टेस्ट मैचों में सिर्फ 87 रन बनाए. चेन्नई में केवल एक अर्धशतक के साथ, इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में उनका खराब फॉर्म जारी रहा. विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के दौरान भी वह फॉर्म में नजर नहीं आए. उसके बाद उनका इंग्लैंड दौरा किसी बुरे सपने से कम नहीं रहा. यहां वह 9 पारियों में 15.5 की बेहद खराब औसत से केवल 107 रन बनाने में सफल रहे.

न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में उनका खराब फॉर्म जारी रहा और उन्हें दूसरे टेस्ट से बाहर कर दिया गया. हालांकि, इसका कारण चोट बताया गया. वह इस साल अपने करियर के सबसे खराब फॉर्म में थे. साल 2021 में सेंचुरियन टेस्ट तक उन्होंने 20.82 की औसत से केवल 470 रन बनाए. अपने खराब फॉर्म के साथ उन्हें भारत की टेस्ट उप-कप्तानी कर्तव्यों से हटा दिया गया. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भी पहले टेस्ट में उनकी परफॉर्मेंस में कुछ खास सुधार नहीं हुआ. सेंचुरियन टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने 48 और दूसरी पारी में 20 रन ही बनाए.

यासिर शाह (Yasir Shah): पाकिस्तान के अनुभवी लेग स्पिनर ने टेस्ट क्रिकेट में 2021 को मुश्किल से झेला है. गेंद के साथ उनके खराब प्रदर्शन के कारण उन्हें पाकिस्तान की टेस्ट टीम से निकाल दिया गया. पिछले तीन वर्षों में उनका प्रदर्शन खराब रहा है, जिससे पाकिस्तान को विकल्प तलाशने के लिए मजबूर होना पड़ा. साथ ही उनकी उम्र उनकी गेंदबाजी के मामले में ज्यादा आत्मविश्वास की गारंटी नहीं देती है.

इस साल अपने सभी खेलों में यासिर काफी सामान्य रहे हैं. किसी भी टेस्ट गेंदबाज के लिए 37.8 का औसत कभी भी अच्छा नहीं होता. बल्लेबाज उनकी विविधता का फायदा उठाने में सक्षम थे और उनकी गेंदबाजी पर जमकर रन भी बटोरे. उनकी विकेट लेने की क्षमता काम नहीं आई और वह अब पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व करने में सक्षम नहीं है. इस साल उन्होंने छह पारियों में आठ विकेट लिए. 35 वर्षीय यासिर शाह को बल्ले से निचले क्रम में आसान रन बनाने के लिए भी जाना जाता था. हालांकि, उन्होंने इस सीजन की पांच पारियों में 18.7 बल्लेबाजी औसत के साथ केवल 73 रन बनाए हैं. उनके इस परफॉर्मेंस के बाद उन्हें इस पाकिस्तानी टीम में वापसी करने में मुश्किल हो सकती है.

स्टुअर्ट ब्रॉड (Staurt Broad): स्टुअर्ट ब्रॉड, एक लंबा तेज गेंदबाज, जो एक टेस्ट लीजेंड है… इस साल इंग्लैंड टीम के अंदर और बाहर होता रहा. पहले काफी विकेट लेने के बावजूद हाल ही में उनकी फॉर्म में गिरावट आई है. वह इंग्लैंड के प्रबंधन के रोटेशन पॉलिसी का भी शिकार रहे हैं, जिसने उनकी फॉर्म पर भी ब्रेक लगाया. 35 वर्षीय गेंदबाज को अंतरराष्ट्रीय प्रारूप में काफी अनुभव है. उनके नाम 526 विकेट दर्ज हैं. विपरीत परिस्थितियों में भी वह मैच जिताने वाला खिलाड़ी बनने की क्षमता रखते हैं. हालांकि, वह इंग्लैंड के रडार पर नहीं था, क्योंकि उन्हें अपने कार्यभार को प्रबंधित करने के लिए रोटेट किया गया.

13 पारियों में उन्होंने 39.5 के औसत से केवल 12 विकेट लिए. उसके पास प्रतिभा की चमक है, लेकिन बीते साल ऐसा कभी नहीं लगा कि वह मैच जीतने वाला स्पैल फेंकने जा रहा है. उम्र उनके पक्ष में नहीं होने के कारण, उन्हें जो भी सीमित अवसर मिलते हैं, उसमें उन्हें बेहतर प्रदर्शन करने की आवश्यकता होती है.

Tags: Ajinkya Rahane, Cricket news, Marcus Harris, Ross taylor, Stuart Broad, Yasir Shah, Year Ender, Year Ender 2021

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here