‘किसी के तलवे नहीं चाटने हैं…’ BCCI से जुड़ने पर हरभजन सिंह की दो टूक

0
16

[ad_1]

नई दिल्ली. दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने हर तरह के क्रिकेट फॉर्मेट से संन्यास ले लिया है. ऐसे में उनके भविष्य की क्या योजना है, इस पर तमाम अटकलें लगाई जा रही हैं. किसी का कहना है कि वह पंजाब के आगामी विधानसभा चुनाव में उतरेंगे तो कोई आईपीएल में किसी टीम के साथ बतौर सपोर्ट स्टाफ जुड़ने के कयास लगा रहा हैं. हालांकि यह तो वक्त ही बताएगा कि भज्जी क्या करेंगे लेकिन इसके लिए वह किसी भी तरह से ‘समझौता’ नहीं करेंगे.

हरभजन सिंह से पूछा गया कि रिटायरमेंट के बाद भी खिलाड़ी बीसीसीआई या बोर्ड से पंगा नहीं लेते हैं, उनका आगे का क्या प्लान है तो भज्जी ने जी न्यूज से बातचीत में कहा, ‘मैं एक ऐसा इंसान रहा हूं जो सही को सही और गलत को गलत कह सके. मुझे लगता है कि जिस किसी को एक ईमानदार आदमी की कद्र होती है, वह मुझे जरूर कहेंगे कि आप आइए और ये काम करना है, आप कर सकते हो. मुझे किसी के तलवे नहीं चाटने हैं कि मुझे कोई खास काम दिया जाए. फिर चाहे वह किसी भी क्रिकेट एसोसिएशन का काम हो या किसी भी तरह से हो. मैं मेहनत करते हुए जिंदगी में आगे बढ़ा हूं. मेरे में भगवान ने इतने गुण दिए हैं कि मैं कुछ करूंगा तो उसमें सफलता हासिल कर सकता हूं.’

इसे भी देखें, हरभजन सिंह लड़ेंगे पंजाब में विधानसभा चुनाव? राजनीति में आने पर तोड़ी चुप्पी

‘3-4 साल पहले रिटायर हो जाना चाहिए था’
41 वर्षीय हरभजन ने साथ ही माना कि वह रिटायरमेंट का फैसला करने में 3-4 साल लेट हो गए. उन्होंने कहा, ‘लेट जरूर हूं. इस नतीजे पर मैं लेट पहुंचा. 3-4 साल पहले ही मुझे रिटायर हो जाना चाहिए था, टाइमिंग ठीक नहीं थी. साल के अंत में सोचा कि क्रिकेट की सेवा किसी और तरीके से करें, खेलने की लालसा अब वैसी नहीं रही जैसी पहले थी. 41वें साल में इतनी मेहनत करने का मन नहीं करता, सोचा कि आईपीएल खेलना है तो मेहनत बहुत लगेगी, देखना है अब आगे कैसे खेल की सेवा करूंगा.’

मैदान से रिटायर होना चाहते थे भज्जी
भज्जी से मशहूर इस स्पिनर ने कहा, ‘हर खिलाड़ी का मन होता है कि भारत की जर्सी में रिटायर हो लेकिन हर बार किस्मत साथ नहीं देती है. कई बार ऐसा हो नहीं पाता है, वीरेंद्र सहवाग या वीवीएस लक्ष्मण सबके साथ ऐसा नहीं हो सका, पीछे नजर घुमा कर देखें तो उनके लिए बीसीसीआई एक मैच दे देती रिटायर होने के लिए तो उनकी इच्छा पूरी हो जाती. उन्होंने 10-15 साल भारतीय क्रिकेट को दिए, लेकिन अगर ऐसा ना हो सका तो भी उनकी शान कम नहीं होगी. वे बड़े खिलाड़ी थे, उनके काम बड़े हैं, उनकी तुलना किसी से नहीं की जा सकती है.’

Tags: Cricket news, Harbhajan singh, Indian Cricketer

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here